Sexually transmitted diseases-STD in hindi

 यौन संचारित रोग (STD) ऐसे संक्रामक रोग हैं, जो फैलते हैं एक संक्रमित व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में। संक्रमित व्यक्ति के साथ शारीरिक संबंध बनाने से|
STD के कारण:- जीवाणु , परजीवी, यीष्ट और विषाणु।
 
     कुछ प्रमुख प्रकार के यौन संचारित रोग – 
1) Chlamydia. 
2) जननांग दाद (Genital herpes) 
3) सूजाक (Gonorrhea) 
4) उपदंश (Syphilis) 
5) लैंगिक मस्से (papillomaviruses -HPVs & genital warts)
6) Chancroid. 
7) Pubic lice and scabies (ectoparasitic infections) 
8) AIDS- Acquired Immunodeficiency Syndrome
9).यकृतशोथ ब (Hepatitis B) 
10)यकृतशोथ स ( Hepatitis C) 
11) Zika virus. 
12)ट्राइकोमोनिएसिस (Trichomoniasis).
     अधिकतर यौन जनित रोग पुरुष और महिला दोनों को ही संक्रमित करते हैं, पर महिलाओं में ये समस्या अधिक परेशानी वाली देखी जाती है। जिससे होने वाले शिशु को भी गंभीर परेशानियाँ हो सकती है। 
 
     प्रतिजैविक (antibiotic) के उपयोग से उन यौन संचारित रोगों का उपचार किया जा सकता है जो जीवाणु , यीस्ट और परजीवी के द्वारा होते हैं.. पर विषाणु से होने वाले यौन संचारित रोग का इलाज संभव नही है। लेकिन दवाओं, सावधानियों और चिकित्सक के परामर्श से रोग को नियंत्रित रखा जा सकता है। 
     •यौन संचारित रोग किसी भी प्रकार के लैंगिक संबंध से संक्रमित हो सकते हैं। 
     •बहुत से यौन संचारित रोग महिलाओं में किसी भी प्रकार के लक्षण प्रकट नही करते हैं। 
     •सामान्य यौन संचारित रोग जो अधिकतर महिलाओं में देखे जाते हैं – -CHLAMYDIA -GONORRHEA. -HPV, -GENITAL HERPES. -ZIKA VIRUS. 
     • कुछ जीवाणु से होने वाले यौन संचारित रोग जैसे- -CHLAMYDIA. – SYPHILIS (उपदंश), GONORRHEA (सुजाक)। इनका उपचार किया जा सकता है परन्तु कुछ घातक यौन संचारित रोग जैसे- -HIV / AIDS. – HEPATITIS B. इनका इलाज संभव नही है पर दवाओं के उपयोग से उनका असर कम किया जा सकता है। 
     •बांझपन यौन संचारित रोग से उत्पन्न होने वाली एक समस्या हो सकती है।
     •निरोध के उपयोग से कुछ यौन संचारित रोगों से रक्षा की सकती है, लेकिन यह 100% मामलों में सही नहीं है। 
 
     कुछ यौन संचारित रोग रोगियों के द्वारा फैलाए जाते हैं, उन रोगियों में रोग के किसी प्रकार के लक्षण दिखाई नही देते, जिससे उन्हें या आसपास के लोगों को पता ही नहीं चलता और अनजाने में ये घातक रोग फैलता जाता है। इसलिए यौन संचारित रोग के लिए जन जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता है, जिसमें रोगी से संक्रमण और उससे बचाव के उपाय बताए जाएं। सुरक्षित लैंगिक संबंध से अच्छा कोई उपाय नहीं है इन रोगों से बचाव का।
     अधिकतर लोगों को यह लगता है कि Kiss करना सुरक्षित है, पर ऐसा नहीं है, , SYPHILIS, HERPES, और अन्य कुछ एेसी बीमारी हैं जिनमें रोगी से केवल kiss के द्वारा ही संक्रमण (infection) हो सकता है । 
     
     ऐसे किसी भी प्रकार के वहम या कोई भी लैंगिक परेशानी होने पर बिना देर किए डॅाक्टर से सलाह लेने में लापरवाही नहीं करना चाहिए। क्यों कि सुरक्षा ही। बचाव है।
और जानें :-
एच.आई.वी.- एड्स (HIV-AIDS)
कीटनाशक और खरपतवार नाशक क्या है?
Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *