तुलसी का वैज्ञानिक मह्त्व (scientific importance of tulsi in hindi)

दोस्तों आप सभी जानते हैं कि तुलसी( holy herb) का जो पौधा है वह हमारे घरों में कितना जरूरी है, और आपने हमेशा अपनी दादी माँ से तुलसी के पौधे का गुणगान जरूर सुना ही होगा।
 पर क्या तुलसी का पौधा सच में इतने काम का है? तो दोस्तों हम आपको बताते हैं कि तुलसी का पौधा विज्ञान के हिसाब से कितना जरूरी है-
तुलसी जिसका वैज्ञानिक नाम ओसिमम सेक्टम (ocimum sanctum) है, जो कि झाडी(herb)  रूप मे उगता है,जिसकी पत्तियाँ सुगंधित होती हैं  उस तुलसी मे अनेक जैव सक्रिय रसायन (Biochemical) पाये जाते है। जिनमे ट्रेनिन (Trenin)सेवोनिन (sevonin) एल्केलाइड प्रमुख है।
साथ ही तुलसी के पौधे कार्बन डाई ऑक्साइड को सोख कर बहुत अधिक मात्रा मे ऑक्सीजन उत्सर्जित करता है जो कि हमारे लिए बहुत जरूरी है।
अब चलते हैं आगे और तुलसी के पौधे के गुणों को जानते हैं,
1. जहाँ तुलसी का पौधा होता है वहां तीखी महक के कारण घरों में डेंगू , मलेरिया फैलाने वाले मच्छर नही आते।
2. तुलसी खून मे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को घटाती है।
3. तुलसी मे तनावरोधी गुण भी पाये जाते है।
4. तुलसी किडनी को मजबूत बनाती है।
5. त्वचा संबंधी रोगों से छुटकारा- तुलसी मे थाइमोल( thymol) नामक तत्व(element) पाया जाता है जो त्वचा रोगों (skin disease) को दूर करने मे मददगार होता है
तुलसी के इतने सारे गुणों के कारण उसे आयुर्वेद में “औषधि की जननी” (mother of medicines) कहा जाता है।
अब आप समझ गये होंगें कि  तुलसी का क्या वैज्ञानिक महत्व (scientific Importance) है।
 
Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *