मलेरिया के प्रकार-Type of malaria

Tropical regin में मलेरिया एक बहुत गंभीर बीमारी है, मलेरिया को कुछ साल पहले WHO और NMEP की Help से ख़त्म कर दिया गया था, लेकिन किसी कारण से Malaria ने एक बार फिर से पूरे World में अपने पैर पसार लिए।

  • WHO-विश्व स्वाथ संगठन (World Health Organisation)
  • NMEP-राष्ट्रीय मलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम (National Malaria Eradication Programme)

Malaria एक Broad Level की Disease है जिसका असर आपको पूरे World में देखने मिलेगा। खासकर हमारे देश भारत, जहाँ इतनी बड़ी population रहती है वहां malaria एक बहुत ही बड़ी Problem है जिसे पूरी तरह खत्म करने के लिए लगातर काम किये जा रहे हैं।

चलिए अब हम malaria से जुडी कुछ और important बातों के बारे में जान लेते हैं जैसे malaria के प्रकार, malaria के लक्षण, अलग अलग Type के होने वाले मलेरिया के कारण , साथ ही हम यह भी जानेंगे की मलेरिया से बचने के सबसे बढ़िया तरीके के बारे में ।

कारण- Cause of Malaria

Malaria एक Protozoan Disease है जो की एक Microorganism से होता है जिसका नाम Plasmodium है। Microorganism की Category में हम ऐसे छोटे l Livings को रखते हैं जिनका Size काफी छोटा होता है इतना छोटा की उन्हें बिना Microscope की Help से देखा नहीं जा सकता।

लक्षण- Symptoms of Malaria

मलेरिया के symptoms के बारे में तो आप सभी जानते ही होंगे क्यूंकि मलेरिया एक ऐसी बीमारी है जो काफी Common है जिससे हमारा सामना कभी न कभी जरूर हुआ है। यदि नहीं हुआ तो आप अपने आप को lucky मान सकते है।

मलेरिया होने पर आपको starting period में Weakness, सिर दर्द, Muscular pain जैसे Symptoms दिखाई देंगे। लेकिन कुछ समय के बाद हल्का फीवर और ठण्ड जैसे Symptoms भी सामने आते हैं।

साथ ही आपकी body का temperature high और low होगा। high fever के बाद आपको पसीना भी आने लगता है और पसीन आयने के बाद बॉडी का temperature एक दम से काम हो जाता है।

High Fever और Sweating की ये Cycle Continue चलती रहती है। मतलब ये सारे Symptoms आप बार बार देखेंगे। बुखार के साथ तेज़ ठण्ड लगना मलेरिया की सबसे बड़ी पहचान है । यदि आपको ये सरे Symptoms दिखाई दे रहे हैं तो आपको सीधे अपने Doctor के पास जाना चाहिए।

लम्बे समय तक Malaria होने पर आपकी Blood में present RBC (red blood cells distorted) हो जाती हैं जिसकी वजह से weakness और anemia हो जाता है साथ ही साथ Liver और spleen का size भी बढ़ जाता है। liver और spleen का बढ़ा हुआ size भी Malaria का एक important defect है।

Malaria में High fever का कारण क्या होता है?

जब Malaria का Protozoa अपनी life cycle की 2nd stage हमारी body में पूरी कर रहा होता है तब वह हमरे blood की RBC से Hemozoin नाम का एक chemical निकलता है उस chemical की वजह से ही हमारी body का temperature high हो जाता है और हमे  Fever feel होता है। Hemozoin को हम Malaria Pigment के नाम से भी जानते हैं।

मलेरिया कैसे फैलता है?

मलेरिया को एक Body से दूसरी Body में फ़ैलाने का काम Female Anopheles Mosquito करती है।
जब एक Malaria से Infected Human को Female Anopheles Bite करती है तब Infected Body के Blood में Present Protozoa के Spores Anopheles के पेट में चले जाते हैं फीमेल Anopheles के पेट में Sporozoites अपनी संख्या बढ़ाते है और Mosquito की Saliva में फिर से इकट्ठे हो जाते हैं।

फिर जब यह फीमेल Mosquito किसी Healthy Body को Bite करती है तब ये Protozoa Mosquito की Saliva के साथ Human की Body में Enter कर जाते हैं और उसको भी Infect कर देते हैं।
यह Cycle Continue चलती रहती है और एक के बाद एक Humans में Malaria फैलता रहता है।

प्रकार-type of malaria

Plasmodium की Mainly चार speises पायी जाती हैं जो 4 अलग अलग Type के Malaria पैदा करते हैं जिनके नाम नीचे दिए जा रहे हैं।

  • प्लाज्मोडियम विवैक्स ( P.Vivax)
  • प्लाज्मोडियम ओवेल (P. Ovale)
  • प्लाज्मोडियम मलेरी (P. malariae)
  • प्लाज्मोडियम फेल्सीपेरम (P. falciparum)

1.प्लाज्मोडियम विवैक्स ( P.Vivax)

यह बिनाइन टर्शियन benign tertian मलेरिया को पैदा करता है जो हर तीसरे दिन मतलब की 48 घंटों के बाद अपना effect show करता है, इस Type के malaria में ज्यादा High Fever नहीं होता और इस Type के Malaria में death केchance भी काम ही होते हैं होता है, Protozoa की ये species खासकर Tropical और temperate दोनों Type के Region में पाई जाती है।

2.प्लाज्मोडियम ओवेल (P. Ovale)

यह भी बिनाइन टर्शियन benign tertian मलेरिया पैदा करता है जो हर 48 घण्टों के बाद अपना effect show करता है, ये species केवल west Africa और south Africa में पायी जाती है।

3.प्लाज्मोडियम मलेरी (P. malariae)

यह क्वार्टन Quartan मलेरिया पैदा करता है जो हर 4th दिन यानि की 72 घंटों के बाद effect show करता है, ये species भी आपको tropical और temperate दोनों region में देखने मिल सकती है लेकिन ये species बहुत rare है।

4.प्लाज्मोडियम फेल्सीपेरम (P. falciparum)

यह अकेला ही तीन प्रकार के मलेरिया मतलब की क्वाडीटियन मलेरिया को पैदा करने में capable होता है जो Normally दिन के समय Attack करता है।

P. falciparum के कारण मैलिंग्नेट टर्शियन मलेरिया होता है जो कि हर 48 घंटों में अपना effect show करता है, लेकिन P. falciparum से होने वाला malaria बहुत Dangerous होता है इस टाइप के malaria में death के chance बहुत ज्यादा होते है। यह एक rare type के मलेरिया है, यह species केवल Tropical region में पायी जाती है।

दोस्तों आज आपने मलेरिया और plasmodium के बारे में बहुत कुछ जाना यदि आपको मलेरिया से जुडी information अच्छी लगी तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ Share कर सकते हैं साथ ही आप नीचे दिए गए Subscription Box में जाकर हमारी वेबसाइट को subscribe भी कर सकते हैं जिससे आगे आने वाली SRBscience की सारी अपडेट आपको मिलती रहें।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *