राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस (National pollution prevention day)

नमस्कार दोस्तों,

आज हम बात करेंगे 2 दिसंबर की जिसे हमारे देश में राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस या National pollution prevention day के रूप में मनाया जाता है। यह दिन CPCB- central pollution control board और भारत सरकार के द्वारा निर्धारित किया गया है।

pollution prevention day
2 दिसंबर और भारत का इतिहास।
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के भोपाल शहर में 2-3 दिसंबर सन् 1984 को एक भयानक औद्योगिक दुर्घटना हुई। इसे भोपाल गैस कांड, या भोपाल गैस त्रासदी(bhopal gas tragedy) के नाम से जाना जाता है।
2 दिसंबर की रात भोपाल में स्थित यूनियन कार्बाइड नामक कंपनी के कारखाने से एक ज़हरीली गैस का रिसाव हुआ जिससे हजारों लोगो की जान गई तथा बहुत सारे लोग अनेक तरह की शारीरिक अपंगता से लेकर अंधेपन के भी शिकार हुए।
 
भोपाल गैस काण्ड में मिथाइलआइसोसाइनाइट (मिक) नामक जहरीली गैस का रिसाव हुआ था। जिसका उपयोग कीकीटनाशक (pesticides) बनाने के लिए किया जाता था।
2006 में सरकार द्वारा दाखिल एक शपथ पत्र में माना गया था कि रिसाव से करीब 558,125सीधे तौर पर प्रभावित हुए और आंशिक तौर पर प्रभावित होने की संख्या लगभग 38,478 थी।
 
2 दिसंबर को क्यों मनाया जाता है National pollution prevention day?
हर साल राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाने के प्रमुख कारकों में से एक औद्योगिक आपदा के प्रबंधन और नियंत्रण के साथ ही पानी, हवा और मिट्टी के प्रदूषण की रोकथाम करना है। राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस हर साल 2 दिसंबर को प्रदूषण नियंत्रण अधिनियमों की आवश्यकता की ओर बहुत अधिक ध्यान देने के लिये लोगों को और सबसे अधिक उद्योगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है।

शायद हमें प्रकृति ने सबकुछ बहुत ही आसानी से दे दिया है, यही कारण है कि आज भी हम प्रदूषण को लेकर गंभीर नहीं हैं। आप सभी से निवेदन है कि आप अपने आसपास होनेे वाले प्रदूषण को रोकें और बहुमूल्य प्रकृति को बचाने में मदद करें।

और जानें :-

कार्बन-डाई-आक्साइड नियंत्रक मशीन

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *