D.D.T. के द्वारा मच्छरों का नियंत्रण

नमस्कार दोस्तों,
     पिछले article में हमने “मच्छर और बीमारियां” की बात की थी। अब हम बात करेंगे D.D.T. सॆ मच्छरों के नियंत्रण  की आप सभी जानते ही हैं कि मच्छरों की बात हो और D.D.T. की बात न हो ऐसा कैसे हो सकता है?  D.D.T. एक popular कीटनाशक (pesticides) है, जिसका उपयोग पूरे विश्व में मच्छरों को मारने के लिये किया जाता है।


डीडीटी क्या है?-what is D.D.T.?

DDT एक बेरंग, बेस्वाद, क्रिस्टलीय और लगभग गंधहीन ऑर्गेनोक्लोराइड पदार्थ है जो इसकी कीटनाशक गुणों के लिए प्रसिद्ध है ! यह दोनों मनुष्यों और जानवरों के लिए भी जहरीला है ! 

Pesticide-D.D.T. ऊतकों (tissue)में जमा है और कई वर्षों तक Active रहता है. इसका उपयोग फसलों की रक्षा के लिए खेती और कृषि में प्रयोग किया जाता है ! जब डीडीटी पौधों पर छिड़का जाता है.

पौधों पर रहने वाले कीड़े इसके साथ सामने आते हैं ! यह कीट के न्यूरॉन्स को प्रभावित करता है जिससे last condition मौत हो जाती है ! यह खाद्य पौधों के माध्यम से मानव जीवन चक्र पर बहुत प्रतिकूल प्रभाव डालता है.


D.D.T. का पूरा नाम और Formula ?

Dichlorodiphenyltrichloroethane 
(डाईक्लोरोडाईफेनिलट्राईक्लोरोएथेन)
Formula C14H9Cl5 फार्मूले के आधार पर हम यह जान सकते हैं कि D.D.T. कार्बन (C), हाइड्रोजन (H)और क्लोरीन (Cl) से मिलकर बना हुआ है।

   दुनिया का पहला pesticide  

D D.T. दुनिया का पहला pesticide है जिसका उपयोग मलेरिया से बचाव के लिए किया गया था,  D.D.T. की कीड़े -मकोडों (pest) को मारने की क्षमता को देखते हुए,  इसका उपयोग विशेष रूप से खेती में pest control के लिए किया जाने लगा। 

     कृषि के क्षेत्र में  D.D.T. का बहुत अधिक मात्रा में उपयोग किया गया जिसके कारण मच्छरों में इसके प्रति प्रतिरोधक क्षमता पैदा हो गई। यही कारण है कि आज D.D.T. का छिड़काव करने पर भी मच्छरों को control नहीं किया जा सकता।

Share

1 thought on “D.D.T. के द्वारा मच्छरों का नियंत्रण”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *