ISRO का 100वां सेटेलाइट

नमस्कार दोस्तों,
पिछले कुछ दशकों में भारत ने अपार सफलताएं प्राप्त की हैं, जिनमें से एक क्षेत्र है अंतरिक्ष विज्ञान का। पिछले कुछ समय से अंतरिक्ष विज्ञान में भारत लगातार नये नये आयामों को छू रहा है,  अंतरिक्ष विज्ञान में भारत की देन लगातार बढते जा रही है। 

      की अंतरिक्ष एजेंसी ISRO (Indian Space Research Organization)के द्वारा शुक्रवार 12 जनवरी 2018 को एक सेटेलाइट छोडा गया जो कि हमारे देश भारत का वर्ष 2018 में पहला सेटेलाइट launch था। इसके साथ ही भारत ने अपने अंतरिक्ष प्रोग्राम में सेंचुरी भी पूरी कर ली।
यह launch PSLV-C-40 के द्वारा अांध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा से किया गया। इस launching में इसरो ने 28 विदेशी और 3 भारतीय सेटेलाइट को एक साथ अंतरिक्ष की ओर रवाना किया।
 
गौरतलब है कि भारत ने अपना पहला सेटेलाइट अार्यभट्ट19 अप्रेल 1975 को सोवियत संघ रूस की मदद से launch किया था। जबकि दुनिया का पहला सेटेलाइट स्पूतनिक -1 1957 में सोवियत संघ के द्वारा launch किया गया था।
भले ही भारत ने अपना पहला सेटेलाइट launch करने में काफी लंबा समय लगा दिया था लेकिन आज स्थिति बहुत अलग, पहले हम बहुत से देशों पर निर्भर थे, लेकिन आज हमारे ISRO और DRDO के वैज्ञानिकों की मेहनत और लगन से हम विश्व में अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में नई Leadership के साथ आगे बढ़ रहे हैं।
 
     INDIAN Space program की एक बडी विषेशता यह है कि हम किसी भी सेटेलाइट को अन्य देशों की तुलना में काफी कम खर्च में launch कर सकते हैं, जिससे कि हम अपने launch में उन छोटे देशों के सेटेलाइट को भी Space तक पहुंचने में सक्षम हैं जिनके पास अपने खुद के launching station नहीं हैं, या हैं तो काफी महंगे हैं।
और जानें 
NASA का इनसाइट मिशन
क्या होगा जब तियानगोंग की पृथ्वी से टक्कर होगी
Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *